Latest News

भारत ने डॉक्टर, इंजीनियर, साइंटिस्ट पैदा किए, पाकिस्तान ने आतंकी और जेहादी

udaybhoomi 23/9/2017/span> Technology

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा को संबोधित करते हुए कहा कि गरीबी को दूर करना टिकाऊ विकास का पहला लक्ष्‍य है. अपने भाषणा की शुरुआत करते हुए सुषमा ने कहा, 'हमारे लिए यह गर्व और प्रसन्‍नता का विषय है कि हम विदेशमंत्रियों में एक विदेश मंत्री आज इस उच्‍च आसन के लिए चुना गया है.' सुषमा ने कहा, नोटबंदी भ्रष्टाचार से उपजे -‘कालेधन’ को चुनौती देने की दिशा में उठाया गया साहसिक फैसला था. सुषमा ने पाकिस्तानी नेताओं से कहा कि वे इस पर आत्ममंथन करें कि भारत क्यों वैश्विक आईटी महाशक्ति के तौर पर जाना जाता है और पाकिस्तान की पहचान ‘आतंकवाद के निर्यात के कारखाने’ की है. स्वराज ने कहा कि भारत ने आईआईटी, आईआईएम और एम्स जैसे संस्थान बनाए जबकि पाकिस्तान ने एलईटी, जेईएम, हिज्बुल मुजाहिद्दीन और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकी गुट तैयार किए. उन्‍होंने कहा कि आतंकवाद मानव जाति के अस्तित्व पर खतरे जैसा है.
,  
,  संयुक्त राष्ट्र महासभा के 72वें सत्र को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र जिन समस्याओं का समाधान तलाश रहा है उनमें आतंकवाद सबसे ऊपर है. उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम अपने शत्रु को परिभाषित नहीं कर सकते तो फिर मिलकर कैसे लड़ सकते हैं? अगर हम अच्छे आतंकवादियों और बुरे आतंकवादियों में फर्क करना जारी रखते हैं तो साथ मिलकर कैसे लड़ेंगे? अगर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद आतंकवादियों को सूचीबद्ध करने पर सहमति नहीं बना पाती है तो फिर हम मिलकर कैसे लड़ सकते हैं?’’

Related Post