Latest News

एससी/एसटी एक्ट संशोधन के विरोध में 'अखंड इंडिया मिशन'

udaybhoomi 9/9/2018/span> Technology

जगदीश वर्मा समंदर : वृन्दावन : एसएसी/एसटी एक्ट एवं अन्य सामाजिक मुद्दों की मॉंग को लेकर आगे की लड़ाई के लिये अखण्ड इंण्डिया मिशन का गठन किया गया है. शांति सेवा धाम पर आयोजित एक बैठक में विभिन्न प्रदेशों से आये लोगों ने एससी-एसटी एक्ट के दुष्प्रभाव को लेकर चिंता व्यक्त की और इसके लिये सतत् प्रयास की आवश्यकता बतायी. इसके लिये एक संगठन के माध्यम से पूरे देश की जनभावना को एक कर सामूहिक जिम्मेदारी तय करने पर विचार मंथन हुआ. बैठक में विभिन्न सामाजिक संगठनों के कार्यकर्ता एवं प्रमुख लोगों ने भाग लिया. एक सैकड़ा से अधिक की संख्या में कार्यकर्ताओं ने देवकीनंदन महाराज को संगठन का अध्यक्ष घोषित किया. वहीं नोयडा की गरिमा सिंह (जर्नलिस्ट) को राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया गया. 18 नवम्बर को भोपाल में सभी वर्गो को साथ लेकर बड़ा आयोजन किया जायेगा.
,   भारत बंद के दौरान शांतिपूर्ण ढंग से अपना विरोध जताने के लिये देवकीनंदन महाराज ने आमजन का धन्यवाद दिया. वहीं सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट संशोधन पर पुर्नविचार याचिका पर सरकार से जवाब मॉगने पर आभार जताते हुये कहा कि न्यायपालिका जनभावना समझ रही है. उन्होने कहा कि दो माह का पर्याप्त समय सरकार को दिया है जिससे कि वह कोई ऐसा रास्ता निकाले जिससे दलित समाज की सुरक्षा भी बनी रहे और बाकी समाज में भय का माहोल न बने. देवकीनंदन महाराज ने कहा कि इस संशोधन के लिये 700 से ज्यादा जनप्रतिनिधि जिम्मेदार हैं जो देश के सदनों पर बैठकर मौन साधे रहे. इस कानून के लागू होने से सभी समाजों में भय व्याप्त है. इससे दलित भाइयों को भी समाज में हाशिये पर डाले जाने की सम्भावना है क्योंकि इसके डर से अन्य समाज उनसे सामाजिक सम्बन्ध, लेन-देन एवं व्यवहार करने से बचेगें. लोगों को भय बना रहेगा कि अमुक व्यक्ति अपनी नारजगी में झूठा केस लगाकर उसकी सामाजिक प्रतिष्ठा को दॉंव पर लगा सकता है. उन्होने जोर देकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय अनुसार ही इसे लागू किया जाना चाहिये. देवकीनंदन महाराज ने कहा कि हम सरकार के विरोध में नहीं है लेकिन लोगों की वेदना को सरकार का विरोध बताकर अपनी जिम्मेदारी से बचा जा रहा है. सरकार से गुजारिश है कि सभी लोगों के हितों को ध्यान में रखकर ही कानून लागू करें.
,   बैठक में वक्ताओं ने एसएसी/एसटी सहित सभी समाजों को एक साथ लेकर चलने की बात कही. वहीं ऐसे कानून का विरोध करने की बात उठी जो समाज को जातिगत आधार पर बॉंटने का कार्य करता है. बैठक के अध्यक्ष ग्वालियर के मनमोहन शर्मा ने कहा कि आज सभी समाजों को एक साथ लेकर चलने की आवश्यकता है. एससी/एसटी समाज भी हम सभी के साथ देश के विकास में सहायक सिद्ध हो सकता है लेकिन नये कानून से उसे समाज की मुख्यधारा से तोड़ने का कार्य किया जा रहा है. इसे समाज को समझना होगा.
,   संगठन के विजय शर्मा ने कहा कि एससी/एसटी कानून में संशोधन को लेकर उठे विरोध में देवकीनंदन महाराज को समाज की ओर से आगे रहने का निवेदन किया जा रहा है. इस एक्ट में संशोधन के लिये समाज की आवाज उठाने के लिये विभिन्न प्रदेशों से लगातार फोन और अन्य माध्यमों से लोग सम्पर्क कर रहे हैं. इसी सन्दर्भ में जनभावना जानने के लिये एक बैठक बुलाई गयी जिसमें केवल कुछ ही लोगों को बुलाया गया था लेकिन बड़ी संख्या में लोग पहुँचे और इस लड़ाई को आगे लड़ने की जरूरत बतायी.
,   उन्होने कहा कि देवकीनंदन महाराज 12 सितम्बर को डेढ़ माह के लिये यूएसए जा रहे हैं.‘अखण्ड इण्डिया मिशन’संगठन के माध्यम से एससी/एसटी एक्ट संशोधन को निरस्त करने की मुहिम को आगे बढ़ाया जायेगा. पूरे देश में इसके माध्यम से सभी वर्गों को एकत्रित कर इसके नुकसान बताये जायेंगे. यह संगठन सभी वर्गों के माध्यम से देश को जोड़ने का कार्य करेगा. 18 नवम्बर को भोपाल में अखण्ड भारत का सपना रखने वाले सभी वर्णों के लोगों का महाकुम्भ आयोजित किया जायेगा.
,   इस अवसर पर 5 लोगों की कोर कमेटी का गठन हुआ जिसमें मनमोहन शर्मा, के.के. गौतम (पूर्व आईएएस), विनोद कुमार मित्तल, अशोक सिहं, गजेन्द्र सिंह शामिल हैं. वहीं सोशल मीडिया टीम में एडवोकेट अनुपम सिंह, देवेन्द्र मृदुगल, दीपक, गजेन्द्र शर्मा, विकास रावत, क्रान्ति पचौरी, महेश शर्मा आदि शामिल हैं. इस अवसर पर प्रदीप राघव ,धर्मेंन्द्र शर्मा, सूर्य कुमार अग्निहोत्री, अनिल कुमार, विकास वार्ष्णेय, राकेश शर्मा, डॉ. आषुतोष शुक्ला, श्यामसुन्दर शर्मा एडवोकेट, विकास पाराषर, चन्द्र प्रकाष शर्मा, इन्द्रेष शरण, गजेन्द्र सिंह, दीपक मृदुगल, धमेन्द्र, राधारमण शर्मा, देव शर्मा आदि मौजूद थे. अखिल भारत वर्गीय ब्राह्मण महासभा, बरेली, क्षत्रिय महासभा, बुलन्दशहर, ब्रज फाउण्डेशन हाथरस, गिर्राज महाराज एजुकेशन ग्रुप मथुरा, ने भाग लिया.
,   मीडिया प्रभारी जगदीश वर्मा ने बताया कि 11 सितम्बर को आगरा के खंदोली क्षेत्र में स्थानीय संगठन द्वारा एसीएसटी एक्ट संशोधन के विरोध में रखी गयी सभा में देवकीनंदन महाराज भाग लेगें. यह सभा दोपहर 1 बजे से है.
,   9 सितम्बर की बैठक को लेकर प्रभारी निरीक्षक, थाना वृन्दावन की ओर से शांति व्यवस्था को नुकसान की आशंका जताते हुये देवकीनंदन महाराज के नाम से एक नोटिस दिया गया जिसमें कहा गया कि वह व्यक्तिगत हितों के लिये शांति सेवा धाम में बैठक कर लोगों को भड़का रहे हैं. नोटिस के माध्यम से कानून व्यवस्था बिगड़ने पर कठोर कार्यवाही की बात कही गयी है. हालांकि नोटिस पर थाने की मुहर तक नहीं लगी है.
,  

Related Post