Latest News

रजनीकांत की लम्बी छलांग

udaybhoomi 4/12/2018/span> Technology

विकल्प शर्मा : नयी दिल्ली : फिल्म 2.0 को आठ साल पहले बाक्स आफिस पर धमाल मचाने वाली एथिरन फिल्म 2016 का आध्यात्मिक सिलसिला बताया जा रहा है. ऐसा शायद इसलिए भी हो कि फिल्म के निर्माता षणमुगम शंकर धर्मपरायण शख्स हैं. 2.0 अब तक की सबसे मंहगी भारतीय फिल्म है जिसे बनाने में करीब तीन साल का समय लगा है.
,   इसमें रजनीकांत की बीमारी का इलाज के लिए 2016 में लिया गया चार महीने का तनावपूर्ण ब्रेक भी शामिल था. फिर भी बाक्स आफिस के बादशाहों के सम्बन्ध पर रत्ती भर फर्क नहीं पड़ा एथिरन और शिवाजी के बाद दोनों की यह तीसरी फिल्म है. अब तक शंकर ने 11 फिल्मों का निर्देशन किया है और सबने लागत से कहीं ज्यादा कमाई की है. तो 2.0 भी नये कीर्तिमान की तरफ बढ़ती जा रही है.
,   एथिरन बेहद कामयाब थी उसी समय तय कर लिया गया कि इसका एक सिक्वल बनाया जाएगा. मार्च 2011 में इस पर काम शुरू हुआ. इसी बीच शंकर 2012 और आई 2015 को पूरा करने लगे. आई का प्रोडक्शन वर्क पूरा होते होते शंकर ने तीन अन्य फिल्मों की स्क्रिप्ट तैयार कर ली थी जिनमें यह एथिरन की सिक्वल भी थी. लाईका प्रोडक्शन पैसे लगाने को राजी हुआ तो रजनीकांत और एआर रहमान साथ मिलकर फिल्म के सिक्वल पर काम में जुट गये.
,   टी मथुरान को फिल्म का आर्ट डायरेक्टर और वी श्रीनिवास मोहन को विजुवल आर्ट सुपरवाईजर के रूप में टीम में शामिल किया गया. फिर शंकर ने 2015 के मध्य में नीरव शाह को सिनेमोटोग्राफर के रूप में नियुक्त किया और उन्हें अमेरिका भेजा ताकि वे वहाँ के फिल्म स्टूडियों में जाकर 3 डी शाट्स के फिल्मांक तरीकों पर रिसर्च करें. इस बीच जयमोहन ने 15 सितम्बर तक स्क्रिप्ट पर काम पूरा कर लिया और बताया कि कहानी वहाँ से आगे बढ़ेगी जहाँ एथिरन में उसे विराम दिया गया था. उसके बाद रजनीकांत की प्रतीक्षा थी ताकि कबाली 2016 पूरी करके फुर्सत हो इस बीच सुपर स्टार कास्ट्यूम के ट्रायल इनिशियल मोशन कैप्चर इफेक्ट्स का काम पूरा करने के लिए नवम्बर 2015 में लॉस एंजिल्स गये.
,   कम्प्यूटर से तैयार ग्राफिक में ही फिल्म के बजट का एक तिहाई हिस्सा लगा. विजुअल इफेक्ट डिजाइनर मोहनलाल ने लाल किला और संसद भवन जैसे कई स्थानों का ग्रीन सिक्वेंस में डिजिटल तैयार किया वहाँ शूटिंग की इजाजत नहीं मिली. अक्टूबर 2016 ब्रेक के बाद रजनीकांत काम पर लौटे. चेन्नई में ब्रिटिश अभिनेता एमी जैक्सन के साथ साथ इन दृश्यों की भी शूटिंग की जिसमें उन्हें एनिमेट्रोनिक तकनीक का उपयोग करके बनाये गये विशाल पक्षियों से लड़ते हुए दिखाया गया है.
,   फिल्म में लगभग 1000 विजुअल इफेक्ट्स हैं. कई शाट्स में काफी देरी हुई थी. अनगिनत एस एकस स्टूडियो को कम्प्यूटर आकृतियाँ बनाने के काम में लगाया गया था. निर्माताओं में एक राजू महालिंगम, जो अब रजनी मक्कल मंडलम के राज्य सचिव भी हैं, बताते हैं हमने इसे चुनौती की तरह लिया था कि हालीवुड की किसी सर्वश्रेष्ठ फिल्म के बराबर बनायेंगे.
,  

Related Post