Latest News

महाभारत पर फिल्म बनाएंगी ग्रेसी सिंह

udaybhoomi 16/12/2018/span> Technology

वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक : कुरुक्षेत्र : गंगाजल, मुन्ना भाई एमबीबीएस, लगान फिल्मों की अभिनेत्री ग्रेसी सिंह की दिली तम्मना है कि महाभारत के यादगार लम्हों को जीवंत रखने के लिए एक फिल्म बनाए. इस फिल्म की कहानी को लेकर बातचीत चल रही है और सबकुछ ठीक रहा तो महाभारत पर एक फिल्म भी बनाएंगी. इतना ही नहीं फिल्म अभिनेत्री ग्रेसी सिंह की यह भी इच्छा है कि जिस धरा पर महाभारत हुआ, उस धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र का भ्रमण भी करूं. इसलिए गीता स्थली से जब-जब निमंत्रण मिलेगा, तब-तब इस धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र में पहुंचने का का हरभरसक प्रयास करेंगी.

प्रसिद्घ अभिनेत्री ग्रेसी सिंह अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव-2018 के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में शिरकत करने से पहले पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं. उन्होंने कुरुक्षेत्र पहुंचने पर खुशी और गर्व होने का इजहार करते हुए कहा कि ब्रह्मकुमारी की सदस्य होने के नाते हर रोज पवित्र ग्रंथ गीता से कुछ नया पाठ सीखती है और मन में गीता का ज्ञान धारण कर अपने जीवन को सफल बनाने का प्रयास करती हैं. कुरुक्षेत्र गीता स्थली के रुप में बहुत सुनने और जानने के बाद इस स्थल को देखने और नजदीक से जानने का पहली बार अवसर मिला है. यह अवसर भी अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के दौरान मिला है. इसलिए इस मौके को जाया नहीं जाने देंगे और वे अपने कृष्ण लीला वैकुंठ सांस्कृतिक कार्यक्रम से युवा पीढ़ी को कुछ न कुछ नया संदेश देकर जाएंगी. इस महोत्सव के दौरान प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सांस्कृतिक धरोहर और संस्कृति से रूबरू होने का एक सुनहरी अवसर मिलता है. इसलिए इस अवसर को जाया नहीं जाने देना चाहिए और अधिक से अधिक लोगों को महोत्सव में शिरकत करने का प्रयास करना चाहिए.
उन्होंने कहा कि पवित्र ग्रंथ गीता का ज्ञान हर बच्चे को अपने जीवन में धारण करना होगा. इससे प्रत्येक बच्चे का जीवन सुंदर हो जाएगा. ब्रह्मकुमारी आश्रम और इस्कान संस्था से जुडे होने के कारण गीता को बहुत नजदीक से जीती हैं और रोजाना गीता का ज्ञान अपने जीवन में धारण करती हैं. इस जीवन में प्रत्येक व्यक्ति को रोजाना कम से कम 5 मिनट पवित्र ग्रंथ गीता को पढऩा चाहिए. जो व्यक्ति रोजाना पवित्र ग्रंथ गीता को पढ़ेगा उसका जीवन सफल हो जाएगा और इसके उसके जीवन में कभी कोई समस्या भी नहीं रहेगी.
उन्होंने फिल्म जगत पर पूछे गए प्रश्नों का जवाब देते हुए कहा कि लगान, मुना भाई एम.बी.बी.एम. जैसी फिल्मों में काम करके समाज को सामाजिक संदेश देने का प्रयास किया है और जब भी मौका मिला इस प्रकार की फिल्मों में काम करती रहेंगी. एक अन्य प्रश्न का जवाब देते हुए कहा कि पवित्र ग्रंथ गीता से काफी जुड़ाव होने के कारण मन में इच्छा है कि महाभारत पर आधारित एक फिल्म तैयार करें और इसके परिणाम भी जल्द देखने को मिलेगे.
ग्रेसी सिंह ने भारत व राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान की प्रशंसा करते हुए कहा कि नारी की शक्ति को पहचाना जाना चाहिए. नारी की वजह से ही संसार चल रहा है. इसलिए नारी का सम्मान समाज के प्रत्येक व्यक्ति को करना चाहिए. एक सवाल का जवाब देते हुए ग्रेसी सिंह ने कहा कि भारतीय फिल्म सिनेमा का वाचस्व आज भी बरकरार है. विदेशों में भारतीय सिनेमा का लोगों के दिलों पर आज भी पूरी तरह राज है.

Related Post