Latest News

मनमोहन सिंह का किरदार निभाना मुश्किल था : अनुपम खेर

udaybhoomi 10/1/2019/span> Technology

विकल्प शर्मा : मुंबई : द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर 11 जनवरी को भारत भर में 1,800 परदों पर रिलीज हो रही है और यह इसलिए भी सुर्खियों में है, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पार्टी के ट्विटर हैंडल पर इसका ट्रेलर साझा करके एक तरह से इसका समर्थन कर दिया है. मगर उस वक्त भी कइयों की भौंहें तनी थीं, जब यूपीए की हुकूमत (2004-2014) के दौरान प्रधानमंत्री रहे डॉ. मनमोहन सिंह के किरदार के लिए अनुपम खेर को चुना गया था और क्यों न तनतीं, खेर भाजपा समर्थक जो हैं. यही नहीं इसकी एक और वजह फिल्म के निर्देशक विजय भी थे, जिनके पिता रत्नाकर गुट्टे ने 2014 में महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव राष्ट्रीय समाज पक्ष, जो राज्य में भाजपा की अगुवाई वाले गठबंधन का हिस्सा है, के टिकट पर लड़ा और हारे. यह फिल्म संजय बारू की इसी नाम की किताब पर आधारित है, जो उन्होंने मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्रित्व काल में उनके मीडिया सलाहकार के तौर पर हुए अनुभवों के बारे में लिखी है. पर कहा फिर भी यही जा रहा है कि “नाटकीय बनाने के लिए किरदारों को कल्पना के आधार पर गढ़ा गया है. मनमोहन सिंह की भूमिका निभाने वाले अनुपम खेर कैसे देखते हैं इस फिल्म को यही जानने की कोशिश की है.
• मनमोहन सिंह का किरदार निभाना कितना मुश्किल था ?
मेरे करियर की सबसे मुश्किल भूमिका थी क्योंकि मैं एक ऐसे शख्स को परदे पर पेश कर रहा था जो अब भी चर्चा में और सक्रिय राजनीति में है. एक ऐसा व्यक्तित्व जिसमें टिपिकल न होने फिर भी टिपिकल होने की खूबी है. मुझे उनके जैसी पतली आवाज साधने में दो महीने लगे फिर इसके भौंड़ी नकल में बदल जाने का जबरदस्त अंदेशा था सो इसको मुझे आत्मसात करना था चार महीनें तक घंटों-घंटों मैंने उनके फुटेज देखे. मैं अपनी अभिनय क्षमता पर ही निर्भर नहीं रह सकता था.
• फिल्म खत्म करने के बाद आपने कहा, उन्हें (मनमोहन सिंह को) ‘इतिहास गलत नहीं समझेगा’इसे थोड़ा और स्पष्ट करेंगे ?
‘इतिहास गलत नहीं समझेगा’वाली पंक्ति उनके आखिरी इंटरव्यू से ली गई है। “मैं उम्मीद करता हूँ कि मीडिया के नजरिए से देखकर इतिहास मुझे गलत नहीं समझेगा.” मैं चूँकि उन्हीं की तरह जी रहा था और वही शख्स हो गया था, लिहाजा मेरे लिए यह बिल्कुल स्वाभाविक था कि मैं उन्हीं की तरह सोचता और उस बदलाव को महसूस करता. मैं समझता हूँ कि वे खासे ईमानदार थे और उनमें एक निश्चित हद तक गरिमा थी. इसी गरिमा के साथ उन्होंने बताया कि उन्होंने हालात को स्वीकार कर लिया है, उस भ्रष्टाचार के बारे में जो उनके वक्त के दौरान बेलगाम था. ओहदे पर उनके 10 साल बेहतरीन नहीं थे, पर किसी भी सियासी नेता के कार्यकाल में केवल अच्छा वक्ता होना तो नामुमकिन है. आप समझ सकते हैं कि वे टिपिकल नेता नहीं है, वे अफसरशाह हैं, निश्चित किस्म के सिद्धांतों वाला अफसरशाह, उन्हें राजनीतिक होने का प्रशिक्षण नहीं मिला था और यही वजह है कि वे मिसफिट थे.
• आपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘उनकी कड़ी मेहनत, ईमानदारी और विजन’के लिए तारीफ की है. आप इन दोनों नेताओं को कैसे देखते हैं ?
मैं नरेन्द्र मोदी जी का समर्थक हूँ क्योंकि मैं समझता हूँ कि वे हिन्दुस्तान के बारें में, अच्छे बदलाव के बारे में सोचते हैं वे कर्मयोगी हैं. मैं उनसे उस वक्त मिला था जब मैं अपनी फिल्म अ वेडनेसडे दिखा रहा था. गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में वह उनका दसवां साल था. अहमदाबाद पहुंचने पर आप देख सकते थे कि उनके इरादे नेक हैं. मैं शायद ही किसी और ऐसे नेता से मिला होउंगा, जो देश की इतनी ज्यादा परवाह करता हो, आप बरसों तक इसका ढ़ोंग नहीं कर सकते. डॉ. सिंह ऐसे नेता नहीं थे जो सियासतदां के तौर पर बड़े हुए हों. मुझे यकीन है कि वे भी, बेशक हिंदुस्तान के बारे में सोचते होंगे और कुछ सुधार भी लाए होंगे, मगर मैं उन्हें बनिस्बतन कमजोर नेता मानता हूँ या शायद ऐसा नेता जिसे उसके ओहदे के मामले में आजादी नहीं दी गई. मुझे उनसे एक ही दिक्कत है और वह यह कि उन 10 सालों के दौरान जब चारों तरफ इतना कुछ हो रहा था, तब उन्हें स्टैंड लेना चाहिए था.


,  

 

Related Post